The family made noise when hiding in the house, then attacked the person; Forest Department and Police started rescue operation | घर में घुसे तेंदुए ने शख्स पर हमला किया, शोर मचाने पर भागा; वन विभाग की टीम तलाश में जुटी

हरदोईएक घंटा पहले

आबादी में घुसे तेंदुए को भगाने के लिए जुटी भीड़।

उत्तर प्रदेश के हरदोई में रविवार को एक तेंदुआ भटककर आबादी वाले इलाके में आ गया। वह एक किराना कारोबारी के घर में घुसा। परिवार के सदस्यों की नजर तेंदुए पर पड़ी तो उन्होंने डरकर शोर मचाया। भागते वक्त उसने किराना कारोबारी पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया।

तेंदुए का शोर सुनकर कई लोग लाठियां लेकर पहुंच गए। भीड़ को देखकर तेंदुआ भाग गया। अब तक उसका पता नहीं चल पाया है। वन विभाग की टीम तेंदुए की तलाश कर रही है।

परिवार ने खुद को कमरे में बंद कर शोर मचाया
सांडी कस्बे के नवाबगंज में रहने वाले सुनील वाजपेयी के परिवार ने बताया कि तेंदुआ उनके मकान में छिपा बैठा था। तेंदुए ने सुनील पर ही हमला किया है। इसके बाद वह कमरे से भागा और दूसरी मंजिल की छत पर बैठ गया। यह देख परिवार के लोगों ने खुद को कमरे में बंद कर लिया।

इस दौरान उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लाठी-डंडा लेकर शोर मचाते रहे। इस पर तेंदुआ घर की छत पर जाकर बैठ गया। सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम और पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। हरपालपुर के क्षेत्रीय वन अधिकारी हनुमान प्रसाद ने बताया कि, आबादी से तेंदुए को हटाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

वन विभाग की टीम और पुलिस फोर्स ने तेंदुए को पकड़ने के लिए जाल लगा दिए हैं।

वन विभाग की टीम और पुलिस फोर्स ने तेंदुए को पकड़ने के लिए जाल लगा दिए हैं।

कई लोगों को जख्मी कर भाग गया

घर में घुसकर तेंदुए ने पूरे इलाके में दहशत फैला दी। इस बीच लोगों की भीड़ जमा हो गई। कुछ लोगों ने पावर सब स्टेशन परिसर में घूम रहे तेंदुए पर पत्थरबाजी कर दी। इससे वह घबराकर गल्ला व्यापारी रामचंद्र गुप्ता के मकान में घुस गया। जब लोगों ने लाठी लेकर खदेड़ा तो तेंदुआ मकान में लगी टीनशेड पर छलांग लगाते हुए उनके पड़ोसी गल्ला व्यापारी सुनील वाजपेयी के मकान में कूदकर पहली मंजिल के बरामदे में पहुंच गया। इस बीच उसके हमले से सुनील व वहां मौजूद जब्बार मामूली रूप से घायल हो गए। आननफानन में उन्होंने कमरे में घुसकर दरवाजा बंद कर अपनी जान बचाई।

चार घंटे बंद कमरे में बंद रहा परिवार

तेंदुए के डर से व्यापारी सुनील का परिवार भी चार घंटे तक कमरे के अंदर बंद रहा। बाद में पिछले दरवाजे से सीढ़ी लगाकर उनको ऊपरी मंजिल से निकाला गया। सूचना पर थाना पुलिस व एसडीओ वीके आनंद मौके पर पहुंचे। डीएफओ ने बताया कि, तेंदुआ पकड़ने के लिए लखनऊ से विशेषज्ञों की टीम ट्रैंकुलाइजर गन के साथ आ रही है। फिलहाल जाल लगाकर उसे रोकने के प्रयास जारी हैं।

3 दिन पहले मिली थी आहट
सांडी थाना क्षेत्र के ही बघराई गांव में 3 दिन पहले तेंदुआ देखे जाने की खबर फैली थी। वन विभाग के रेंजर ने इससे इनकार कर दिया था। इसके बाद हर कोई बेफिक्र हो गया। लेकिन, इस इलाके के आसपास खेतों में जंगली जानवर के पंजों के निशान देखे जा रहे थे। थाना सांडी के गांव पकरा सैदापुर के खेतों में चार-पांच दिन पहले तेंदुआ के पैरों के निशान मिले थे, लेकिन उसके दिखने की पुष्टि नहीं हुई थी। रविवार सुबह की दोपहर सांडी कसबे के मोहल्ला नवाबगंज में स्थित पावर हाउस के निकट बैट्री की दुकान चलाने वाले लईक झाड़ियों की ओर जा रहे थे। वहां उन्होंने तेंदुआ को टहलते हुए देखा तो भागकर वापस लौट आए।

खबरें और भी हैं…