डरबन के अयोबा कोल्ड स्टारेज के आस-पास लोगों की भीड़। एक हफ्ते के अंदर दिक्षण अफ्रीका में हालात बद से बदतर हो गए हैं। - Dainik Bhaskar

जोहानसबर्ग16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
डरबन के अयोबा कोल्ड स्टारेज के आस-पास लोगों की भीड़। एक हफ्ते के अंदर दिक्षण अफ्रीका में हालात बद से बदतर हो गए हैं। - Dainik Bhaskar

डरबन के अयोबा कोल्ड स्टारेज के आस-पास लोगों की भीड़। एक हफ्ते के अंदर दिक्षण अफ्रीका में हालात बद से बदतर हो गए हैं।

दक्षिण अफ्रीका में पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की गिरफ्तारी के िखलाफ बीते कई दिनों से हिंसक प्रदर्शन हो रहा है। उपद्रवियों ने डरबन, सोवेटो, जोहानसबर्ग समेत कई शहरों में इमारतों को आग लगा दी है। मॉल और शॉपिंग सेंटर को तो तबाह किया ही है, घरों और गोदामों को भी नहीं बख्शा है। इसके चलते पूरे देश में खाद्य संकट पैदा हो गया है।

आलम यह है कि खाने-पीने का समान जुटाने के लिए लंबी-लंबी कतारों में फूड स्टोर्स के सामने खड़े हैं। लोगों की यह कतारें सैटेलाइट इमेज में नजर आ रही है। 16 जुलाई को अमेरिकी स्पेस टेक्नोलॉजी कंपनी मैक्सर टेक्नोलॉजीज ने दक्षिण अफ्रीका के पीटरमैरित्जबर्ग और डरबन की तस्वीरें कैप्चर कीं। इसमें देखा जा सकता है कि खाद्य सामग्री खरीदने के लिए बड़ी संख्या में लोग सुपरमार्केट्स के सामने खड़े होकर इंतजार कर रहे हैं।

पीटरमैरित्जबर्ग में फूड स्टोर के बाहर खड़े लाेग। यहां सुपरमार्केट्स और कई गोदामों में आग लगा दी गई, जिसके बाद खाद्य संकट पैदा हो गया।

पीटरमैरित्जबर्ग में फूड स्टोर के बाहर खड़े लाेग। यहां सुपरमार्केट्स और कई गोदामों में आग लगा दी गई, जिसके बाद खाद्य संकट पैदा हो गया।

पीटरमैरित्जबर्ग का ब्रूकसाइड मॉल, जिसमें उपद्रवियों ने लूटपाट मचाई और फिर उसमें आग लगा दी।

पीटरमैरित्जबर्ग का ब्रूकसाइड मॉल, जिसमें उपद्रवियों ने लूटपाट मचाई और फिर उसमें आग लगा दी।

डरबन में एक इमारत के पास जमा हुए लोग। इस हिंसा को दक्षिण अफ्रीका में 90 के दशक के बाद की सबसे बड़ी हिंसा बताया जा रहा है।

डरबन में एक इमारत के पास जमा हुए लोग। इस हिंसा को दक्षिण अफ्रीका में 90 के दशक के बाद की सबसे बड़ी हिंसा बताया जा रहा है।

पीटरमैत्जबर्ग में गैस स्टेशन के बाहर लगी वाहनों की लंबी लाइन। इस हिंसा में करीब 10,400 करोड़ रुपए के माल का नुकसान हुआ है।

पीटरमैत्जबर्ग में गैस स्टेशन के बाहर लगी वाहनों की लंबी लाइन। इस हिंसा में करीब 10,400 करोड़ रुपए के माल का नुकसान हुआ है।

क्यों बने दक्षिण अफ्रीका में ऐसे हालात?
दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा (79) एक हफ्ते से जेल में हैं। अदालत ने जुमा को पिछले माह कोर्ट की अवमानना का दोषी करार दिया था। जुमा भ्रष्टाचार के मामले की जांच में शामिल नहीं हो रहे थे। यह मामला जुमा के राष्ट्रपति कार्यकाल (2009-18) के दौर का है। कोर्ट ने जुमा को 15 माह जेल की सजा सुनाई थी। जुमा की गिरफ्तारी के बाद देश भर में हिंसा, लूटपाट और आगजनी की घटनाएं हो रही हैं।

खबरें और भी हैं…