Rakesh Jhunjhunwala Aptech Insider Trading Case | SEBI Settlement With Stock Market Investor Jhunjhunwala And Nine Others | राकेश झुनझुनवाला और 9 अन्य ने सेबी के साथ सेटलमेंट किया, 37 करोड़ रुपए चार्ज भरे

  • Hindi News
  • Business
  • Rakesh Jhunjhunwala Aptech Insider Trading Case | SEBI Settlement With Stock Market Investor Jhunjhunwala And Nine Others

मुंबई15 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • इनसाइडर ट्रेडिंग में झुनझुनवाला की पत्नी, भाई और रिश्तेदार शामिल हैं
  • फोर्ब्स की रिपोर्ट के अनुसार, झुनझुनवाला की नेटवर्थ 3.3 अरब डॉलर है

शेयर बाजार में देश के सबसे बड़े निवेशक राकेश झुनझुनवाला और 9 अन्य लोगों ने अप्टेक शेयर में इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले में सेबी के साथ सेटलमेंट किया है। इसके तहत इन लोगों ने सेटलमेंट चार्ज के रूप में 37 करोड़ रुपए का पेमेंट किया है।

झुनझुनवाला ने 18.48 करोड़ रुपए दिया

इसमें राकेश झुनझुनवाला ने सबसे ज्यादा 18.48 करोड़ जबकि उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला ने 3.19 करोड़ रुपए का सेटलमेंट चार्ज भरा है। राकेश के भाई राजेश झुनझुनवाला ने 2.46, बहन सुधा गुप्ता ने 1.02 करोड़, सास सुशीला गुप्ता ने 1.63 करोड़ और रमेश दमानी ने 6.21 करोड़ रुपए का चार्ज भरा है। अप्टेक में इनसाइडर ट्रेडिंग का मामला 5 साल पुराना है।

2016 का है मामला

राकेश झुनझुनवाला पर मई से अक्टूबर 2016 के बीच अप्टेक शेयरों में इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप है। सेबी इसी मामले की जांच कर रही थी। अप्टेक में झुनझुनवाला और उनके परिवार की 49% हिस्सेदारी है। उनके सैकड़ों शेयरों के पोर्टफोलियो में यही एक मात्र कंपनी है जिसमें उनकी मालिकाना हिस्सेदारी है। उन्होंने इस कंपनी में पहली बार 2005 में 56 रुपए के भाव पर शेयर खरीदे थे। गुरुवार को यह 5.50 पर्सेंट बढ़त के साथ शेयर 257 रुपए के भाव पर कारोबार कर रहा था। इस समय उनके एप्टेक के शेयरों की वैल्यू 421 करोड़ रुपए है।

अप्टेक बोर्ड के सदस्य हैं शेठ

उत्पल शेठ अप्टेक के बोर्ड सदस्य हैं। शेठ झुनझुनवाला की कंपनी रेयर में मुख्य वित्तीय अधिकारी हैं। झुनझुनवाला इससे पहले भी जियोमैट्रिक नाम की कंपनी के मामले में सेटलमेंट कर चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक झुनझुनवाला ने कोर्ट के बाहर सेटलमेंट की योजना इसी साल फरवरी में बनाई थी। इसके लिए उन्होंने कंसेंट अप्लीकेशन फाइल किया था। कंसेंट अप्लीकेशन यानी रेगुलेटर के साथ सेटलमेंट करना है। इस मामले में सेबी ने कुछ समय पहले ही राकेझ झुनझुनवाला को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। इसी के बाद सेटलमेंट की बात बनी है।

फोर्ब्स की रिपोर्ट के अनुसार, झुनझुनवाला की नेटवर्थ 3.3 अरब डॉलर है। वे देश के सबसे बड़े व्यक्तिगत निवेशक हैं। उन्होंने इंगलिश विंग्लिश फिल्म को प्रोड्यूस भी किया था। झुनझुनवाला के पिता इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी रहे हैं। उन्होंने

गुप्त सूचनाओं के आधार पर कारोबार को इनसाइडर ट्रेडिंग कहते हैं

इनसाइडर ट्रेडिंग का मतलब कंपनी से जुड़ी गुप्त सूचनाओं के आधार पर शेयर की खरीदी या बिक्री करना है। उस कंपनी में आपकी हिस्सेदारी है या फिर उस कंपनी से आप जुडे हैं। आपको वह जानकारी है जिसके आधार पर आप शेयर की खरीदी या बिक्री नहीं कर सकते हैं। शेयर बाजार का रेगुलेटर सेबी है। राकेश झुनझुनवाला को भारत का वॉरेन बफे कहा जाता है। वे बाजार के सबसे बड़े निवेशक हैं।

खबरें और भी हैं…