अदा अपने भाई का जन्मदिन मनाने के लिये अपनी नानी के घर से वापस लौटी थी.  (सांकेतिक फोटो)

अदा अपने भाई का जन्मदिन मनाने के लिये अपनी नानी के घर से वापस लौटी थी.  (सांकेतिक फोटो)

अदा अपने भाई का जन्मदिन मनाने के लिये अपनी नानी के घर से वापस लौटी थी. (सांकेतिक फोटो)

Jammu Kashmir News: मध्य बडगाम जिले के ओम पुरा में स्थित अदा मीर के घर में तीन जून को बड़े भाई अली का सातवां जन्मदिन मनाया जा रहा था. इस दौरान ‘बार्बी डॉल’ के जैसे कपड़े पहनी अदा अपने घर के बरामदे में आई तो तेंदुआ उसे उठाकर ले गया.

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के श्रीनगर के बाहरी इलाके में एक घर से एक तेंदुआ पांच वर्षीय बच्ची को उठाकर ले गया, जिसके बाद उसके शव के अवशेष अगले दिन पास में ही जंगल में तब्दील की गई नर्सरी से बरामद हुए.

इस घटना के बाद लड़की के परिवार में गम का माहौल है. मध्य बडगाम जिले के ओम पुरा में स्थित अदा मीर के घर में तीन जून को बड़े भाई अली का सातवां जन्मदिन मनाया जा रहा था. इस दौरान ‘बार्बी डॉल’ के जैसे कपड़े पहनी अदा अपने घर के बरामदे में आई तो तेंदुआ उसे उठाकर ले गया.

सजधज कर दादा को बुलाने गई थी बच्ची

अदा के मामा एजाज अहमद ने कहा, ‘अदा अपने भाई का जन्मदिन मनाने के लिये अपनी नानी के घर से वापस लौटी थी. वह सजधज कर तैयार हुई और भाई का केक काटे जाने के लिये बरामदे में बैठे अपने दादा को बुलाने गई थी. तभी यह घटना हुई.’जंगल में मिले बच्ची के अवशेष

इस घटना के बाद घर में सन्नाटा पसर गया और अदा का परिवार, पड़ोसी तथा वन अधिकाकारी उसकी तलाश में निकल पड़े. इस दौरान उन्हें खून के कुछ धब्बे और लड़की की गुड़िया मिली. अगले दिन पास ही में एक जंगल से लड़की के शव के अवशेष मिले. शनिवार को लड़की का अंतिम संस्कार किया गया. लोग ट्विटर के जरिये इस घटना पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः- केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते बोले- शराब बड़ा टॉनिक है, कोरोना कॉल में बहुत जरूरी

घटना के बाद सदमे में है बच्ची के माता-पिता

इस घटना के बाद से लड़की के माता-पिता सदमे में हैं. इस साल की शुरुआत में उसकी दादी का भी देहांद हो गया था. क्षेत्रीय वन्यजीव संरक्षक (कश्मीर) राशिद नकश ने घटना पर शोक व्यक्त किया लेकिन कहा कि इसके लिये उनके विभाग को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिये.

नकश ने कहा, ’’हमने वहां पहली बार तेंदुए को देखे जाने के बाद चार साल के दौरान कई बार वन विभाग के साथ जंगली जानवरों की मौजूदगी का मुद्दा उठाया.’’उन्होंने कहा कि तेंदुए को देखे जाने के बाद विभाग ने पेशेवराना तरीके अपने कर्तव्य का निर्वहन किया.





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here