आयकर अधिनियम, 1961 के मुताबिक फॉर्म 15CA/15CB को ऑनलाइन भरा जाना जरूरी है।   -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar

  • Hindi News
  • Business
  • Income Tax Filing; CBDT Grants Further Relaxation In Electronic Filing Of Forms 15CA & 15CB

मुंबई9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
आयकर अधिनियम, 1961 के मुताबिक फॉर्म 15CA/15CB को ऑनलाइन भरा जाना जरूरी है।   -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar

आयकर अधिनियम, 1961 के मुताबिक फॉर्म 15CA/15CB को ऑनलाइन भरा जाना जरूरी है। -फाइल फोटो

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सज (CBDT) ने टैक्सपेयर्स के लिए बड़ी राहत दी है। ई-पोर्टल में आ रही दिक्कतों को देखते हुए फॉर्म 15CA और फॉर्म 15CB ई-फाइलिंग की आखिरी तारीख बढ़ाकर 15 अगस्त, 2021 कर दी है, जो पहले 15 जुलाई थी। आयकर अधिनियम, 1961 के मुताबिक फॉर्म 15CA/15CB को ऑनलाइन भरा जाना जरूरी है।

क्या होता है फॉर्म 15CA और फॉर्म 15CB

  • फॉर्म 15CA रेमिटर का डेक्लेरेशन होता है। यानी जो पेमेंट कर रहा है वो यह बताता है कि वह पेमेंट किसे और किस खाते में भेज रहा है। कुल मिलाकर इस फॉर्म का इस्तेमाल पेमेंट्स की जानकारी इकट्ठा करने के लिए किया जाता है, जो कि नॉन रेजिडेंट रेसिपेंट्स के लिए टैक्सेबल होती है।
  • फॉर्म 15CB कि बात करें तो यह सिर्फ एक सर्टिफिकेट होता है, जो चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) रेमिटर को देता है। इसमें अमाउंट से लेकर उस पर लगने वाले टैक्स की जानकारियां होती हैं। सर्टिफिकेट में लिखा होता है कि किस तरह का और कितनी दर से टैक्स लगा है।

मैनुअल फॉर्मेट में कैसे सबमिट होगा फॉर्म?
मैनुअल फॉर्मेट के तहत आपको 15CA फॉर्म भरना होता है। इसके बाद चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) के पास जाकर 15CB भरवाना होता है। 15CB एक सर्टिफिकेट होता है जो ये बताता है कि फॉर्म 15CA में दी गई जानकारी सही है। इन दोनों फॉर्म को भरकर आपको ऑथराइज्ड डीलर के पास सबमिट करना होता है।

नए पोर्टल में लॉन्चिंग के दिन से ही आ रही दिक्कतें
इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने 7 जून को नया ई-फाइलिंग पोर्टल लॉन्च किया था, जिसमें दावा किया गया कि इससे टैक्सपेयर्स को ITR फाइलिंग में आसानी होगी। लेकिन इस पोर्टल को लेकर कई शिकायतें और दिक्कतें सामने आ रही हैं। इन दिक्कतों को दूर करने के लिए सरकार ने इंफोसिस के साथ बैठकें भी की हैं। इंफोसिस ने सरकार को कहा है कि इस पर काम जारी है।

खबरें और भी हैं…