यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के पर्सनल अकाउंट से ट्विटर ने ब्लू टिक हटा दिया था। हालांकि, कुछ घंटे बाद ट्विटर ने फिर से अकाउंट को सत्यापित कर दिया और ब्लू टिक लौटा दिया - Dainik Bhaskar

मुंबई3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के पर्सनल अकाउंट से ट्विटर ने ब्लू टिक हटा दिया था। हालांकि, कुछ घंटे बाद ट्विटर ने फिर से अकाउंट को सत्यापित कर दिया और ब्लू टिक लौटा दिया - Dainik Bhaskar

यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के पर्सनल अकाउंट से ट्विटर ने ब्लू टिक हटा दिया था। हालांकि, कुछ घंटे बाद ट्विटर ने फिर से अकाउंट को सत्यापित कर दिया और ब्लू टिक लौटा दिया

  • नए नियमों को लेकर 5 जून को नोटिस भेजी गई है
  • ट्विटर को जुर्माने के लिए तैयार रहना चाहिए

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर को सरकार ने एक बार फिर नोटिस दिया है। यह फाइनल नोटिस है। सरकार ने कहा है कि ट्विटर को नए IT नियमों का पालन करना ही होगा।

कई बार सरकार ने कहा नए नियमों का पालन करे

दरअसल सरकार ने कई बार टिवटर से कहा है कि वह नए IT नियमों का पालन करे। लेकिन ट्विटर लगातार इसमें देरी कर रहा है। सरकार ने कहा है कि तुरंत जरूरी नियमों का पालन किया जाए। इस संबंध में 5 जून को ट्विटर को नोटिस दी गई है।

अमेरिकी पते पर भेजी गई नोटिस

नोटिस में ट्विटर के अमेरिकी पते को शामिल किया गया है और यह जिम बेकर को भेजा गया है। नोटिस में कहा गया है कि 26 मई 2021 को नियमों और अन्य शर्तों के मामले में नोटिस भेजी गई थी। फिर से 28 मई को और फिर 2 जून को नोटिस भेजी गई। IT मंत्रालय ने कहा है कि ट्विटर की ओर से कोई स्पष्टीकरण मंत्रालय को नहीं मिला है।

मुख्य शिकायत अधिकारी की जानकारी नहीं दी गई

नोटिस के मुताबिक न ही ट्विटर की ओर से नए नियमों का पालन किया जा रहा है। मंत्रालय ने कहा है कि ट्विटर की ओर से मुख्य शिकायत अधिकारी की पूरी जानकारी नहीं दी गई है। साथ ही नोडल कांटैक्ट अधिकारी की भी जानकारी नहीं दी गई है। भारत में इसके लिए जो नियम तय तय किए गए हैं, उसका पालन करना चाहिए। नोटिस के अनुसार, ट्विटर ने जिस कानूनी फर्म को भारत में बताया गया है वह भी नियम के मुताबिक नहीं है।

26 मई से लागू हो चुका है नियम

इसके मुताबिक, सोशल मीडिया इंटरमीडियरीज के जो नियम हैं, वे 26 मई से लागू हो चुके हैं और इसे एक हफ्ते से ज्यादा हो गया है। लेकिन ट्विटर ने इन नियमों के प्रोविजन को पूरा करने के लिए इनकार कर दिया है। IT मंत्रालय के साइबर लॉ के ग्रुप को ऑर्डिनेटर राकेश माहेश्वरी ने इस नोटिस को भेजा है। इसमें कहा गया है कि अगर ट्विटर इस फाइनल नोटिस का पालन नहीं करता है तो उसे नियमों के मुताबिक जुर्माना के लिए तैयार रहना चाहिए।

पालन की कमी को दर्शाता है

इसका पालन करने से इनकार करना ट्विटर की प्रतिबद्धता (commitment) की कमी दर्शाता है और यह भी बताता है कि यह भारत के लोगों को सुरक्षित प्लेटफॉर्म प्रदान करने की दिशा में ठोस कदम नहीं उठा रहा है। ट्विटर के मूल देश के बाहर, भारत दुनिया के उस सबसे बड़े लोकतांत्रिक देशों में शामिल है, जो काफी बढ़चढ़कर ट्विटर प्लेटफॉर्म को अपनाता रहा है।

पिछले हफ्ते ही टिवटर ने हाईकोर्ट में जवाब दिया

केंद्र सरकार से टकराव के बाद ट्विटर ने नए आईटी नियमों का पालन करने का निर्णय लिया है। सोमवार को सोशल मीडिया कंपनी ने दिल्ली हाईकोर्ट में जवाब पेश किया। कंपनी ने बताया कि उसने भारत सरकार के आई रूल कानून 2021 को लागू कर दिया है। इसके लिए कंपनी ने एक अधिकारी की नियुक्ति 28 मई को ही कर दी थी। हालांकि, कोर्ट में सरकार ने ट्विटर के दावे को खारिज कर दिया है।

यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के पर्सनल अकाउंट से ट्विटर ने ब्लू टिक हटा दिया था। हालांकि, कुछ घंटे बाद ट्विटर ने फिर से अकाउंट को सत्यापित कर दिया और ब्लू टिक लौटा दिया। इतना ही नहीं, ट्विटर ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के अकाउंट से भी ब्लू टिक हटा दिया है।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here