Cricket's ODI World Cup started 46 years ago, in the very first match, Gavaskar scored only 36 runs in 174 balls. | 46 साल पहले हुई थी क्रिकेट के वनडे वर्ल्ड कप की शुरुआत, पहले ही मैच में गावस्कर ने 174 गेंद में बनाए थे महज 36 रन

  • Hindi News
  • National
  • Cricket’s ODI World Cup Started 46 Years Ago, In The Very First Match, Gavaskar Scored Only 36 Runs In 174 Balls.

35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

क्रिकेट प्रेमियों के लिए आज का दिन बेहद खास है। आज ही के दिन साल 1975 में क्रिकेट के पहले वनडे वर्ल्ड कप की शुरुआत हुई थी। इंग्लैंड में खेले गए इस टूर्नामेंट में 8 टीमों ने भाग लिया था जिसमें भारत भी एक था। क्रिकेट के इस पहले वर्ल्ड कप को क्लाइव लॉयड की कप्तानी में वेस्टइंडीज ने जीता था। इस वर्ल्ड कप की एक खास बात ये थी कि हर मैच 60 ओवरों का खेला गया था।

पहले वर्ल्ड कप में जो 8 टीमें मैदान में थीं, उन्हें 4-4 के 2 ग्रुप में बांटा गया था। पहले ग्रुप में इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, भारत और पूर्वी अफ्रीका की टीमें थीं। वहीं, दूसरे ग्रुप में वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और श्रीलंका की टीमें थीं। इंग्लैंड के ही 4 अलग-अलग मैदानों पर पूरे टूर्नामेंट के 16 मैच खेले गए। फाइनल मुकाबला लंदन के लॉर्ड्स में खेला गया।

वर्ल्ड कप में हुए भारत और इंग्लैंड के मैच को 2 वजहों से याद किया जाता है। इस मैच में इंग्लैंड के बल्लेबाज डेनिस एमिस ने शतक लगाया था। ये वर्ल्ड कप का पहला शतक था। इसी मैच को भारतीय बल्लेबाज सुनील गावस्कर की धीमी पारी के लिए भी याद किया जाता है। गावस्कर ने बेहद धीमा खेलते हुए 174 गेंदों में केवल 36 रन बनाए थे।

इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम नॉकआउट से पहले ही बाहर हो गई थी। पहला सेमीफाइनल इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया और दूसरा सेमीफाइनल न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेला गया। वर्ल्ड कप के इतिहास में यह एकमात्र वर्ल्ड कप है, जिसमें एशिया उपमहाद्वीप की कोई भी टीम सेमीफाइनल में नहीं पहुंची।

फाइनल मुकाबला 21 जून को वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया। जिसे वेस्टइंडीज ने 17 रनों से जीत लिया।

1893: गांधी जी के साथ हुई वो घटना जिसने सत्याग्रह की नींव रखी

साल 1893 में आज ही के दिन जो घटना हुई उसने गांधी जी में सत्याग्रह की नींव रखी। गांधी जी रेलगाड़ी से डरबन से प्रिटोरिया जा रहे थे। उनके पास फर्स्ट क्लास डिब्बे का टिकट था जिसे लेकर वो ट्रेन में सवार हो गए। जब उनकी ट्रेन पीटरमारित्जबर्ग स्टेशन पर रुकी, तो ट्रेन के कंडक्टर ने उन्हें डिब्बे से उतर जाने को कहा। गांधी जी ने कंडक्टर को अपना टिकट दिखाया, लेकिन कंडक्टर माना नहीं। दरअसल उस समय दक्षिण अफ्रीका में ट्रेन के फर्स्ट क्लास डिब्बों में केवल गोरे लोग ही सफर कर सकते थे।

जब गांधी जी डिब्बे से नहीं उतरे तो कंडक्टर ने गांधी जी को धक्का देकर ट्रेन से उतार दिया। गांधी जी कड़कड़ाती सर्दी में रात भर स्टेशन के वेटिंग रूम में ही बैठे रहे।

इस नस्लभेदी हमले ने गांधी जी को बेहद प्रभावित किया। पूरी रात वो सोचते रहे कि भारत लौटें या दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों पर हो रहे जुल्म के खिलाफ आवाज उठाएं। गांधी जी ने बाद वाले विचार पर अमल करने का फैसला लिया। इसी रात दक्षिण अफ्रीका के पीटरमारित्जबर्ग में गांधी जी के सत्याग्रह की नींव पड़ चुकी थी। गांधी जी के इस सत्याग्रह ने हर दमनकारी सत्ता की नींव हिला दी।

साल 2018 में इस घटना की 125वीं सालगिरह पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी पीटरमारित्जबर्ग गई थीं। उनसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस जगह जा चुके हैं।

सितंबर 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पीटरमारित्जबर्ग का दौरा किया था।

सितंबर 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पीटरमारित्जबर्ग का दौरा किया था।

1979: भारत ने पहली रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट लॉन्च की
आज ही के दिन साल 1979 में इसरो की एक बड़ी उपलब्धि जुड़ी थी। इसरो ने अपना पहला रिमोट सेंसिंग भास्कर-1 लॉन्च किया था। इसका नाम भारतीय गणितज्ञ भास्कर के नाम पर ‘भास्कर-1’ रखा गया था। 442 किलो के इस सैटेलाइट को रूस के वोल्गोग्राड लॉन्च स्टेशन से लॉन्च किया गया था। इस सैटेलाइट में 2 टीवी कैमरे लगे थे, जिनके द्वारा भेजे गए फोटो का इस्तेमाल समुद्र और जंगल के बारे में जानकारी जुटाने में किया गया। इस सैटेलाइट की उम्र 1 साल थी। इसके बाद साल 1981 में इसरो ने भास्कर-2 को लॉन्च किया।

भास्कर-1

भास्कर-1

7 जून के दिन को इतिहास में और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है…

2020: दुनियाभर में कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा 4 लाख को छू गया।

2019: नासा ने अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन को पर्यटकों के लिए खोला। कुछ शर्तों के साथ आप भी वहां घूमने जा सकते हैं, जिसके लिए आपको करीब 5 करोड़ अमेरिकी डॉलर खर्च करना होंगे।

2017: ईरान में ISIS ने पहला आतंकी हमला किया। ईरान की राजधानी तेहरान में हुए आत्मघाती हमले में 12 लोगों की मौत हुई।

2013: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने टीवी पर अपनी पत्नी से तलाक की घोषणा की।

2010: भोपाल गैस कांड में यूनियन कार्बाइड के 7 कर्मचारियों को दोषी पाया गया।

2005: लालकृष्ण आडवाणी ने भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया। अपने पाकिस्तान दौरे पर आडवाणी ने जिन्ना को सेक्युलर बताया था, उसके बाद काफी विवाद हुआ।

1998: अमेरिका के टेक्सास में एक 49 साल के अफ्रीकी आदमी को गोरे लोगों ने लोडिंग पिकअप में चेन से बांधकर तब तक सड़कों पर घसीटा जब तक वह मर न गया।

1995: पहली बार बोइंग-777 विमानों को यूनाइटेड एयरलाइंस में शामिल किया गया।

1991: फिलिपींस के माउंट पिनाटुबो पर पहली बार ज्वालामुखी फटा।

1955: भारतीय प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने सोवियत संघ का दौरा किया।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here