कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि देश में करीब 40% सरकारी स्वास्थ्य केंद्र हैं, जबकि 60% निजी अस्पताल और क्लिनिक हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को निजी अस्पतालों में भी फ्री वैक्सीन करना चाहिए था। - Dainik Bhaskar

  • Hindi News
  • National
  • Congress Reaction On PM Narendra Modi Speech PM Modi Address Nation On Corona Vaccine Latest News

नई दिल्ली4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि देश में करीब 40% सरकारी स्वास्थ्य केंद्र हैं, जबकि 60% निजी अस्पताल और क्लिनिक हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को निजी अस्पतालों में भी फ्री वैक्सीन करना चाहिए था। - Dainik Bhaskar

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि देश में करीब 40% सरकारी स्वास्थ्य केंद्र हैं, जबकि 60% निजी अस्पताल और क्लिनिक हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को निजी अस्पतालों में भी फ्री वैक्सीन करना चाहिए था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ऐलान कि अब देश भर में लोगों को कोरोना वैक्सीन केंद्र की ओर से लगाई जाएगी। कई राज्य इसकी काफी पहले से मांग कर रहे थे। अब तक केंद्र सिर्फ 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ही वैक्सीन लगवा रहा था। 18 से 44 साल तक के लोगों के वैक्सीनेशन की जिम्मेदारी राज्यों के हवाले कर दी गई थी। राज्यों को इसी बात से आपत्ति थी। 1 मई से वैक्सीन खरीदने की इजाजत के बावजूद वे टीके नहीं खरीद पाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देश के नाम संबोधित किया। कोरोना के समय प्रधानमंत्री का देश के नाम ये नौवां संबोधन है। इस दौरान मोदी ने कहा कि देश में पिछले 60 साल में वैक्सीन नहीं बनी। विदेश से मंगवाने में भी दशकों लग जाते थे। मोदी के ऐलान के बाद विपक्ष की भी प्रतिक्रियाएं आने लगीं। इनमें सबसे तल्ख कांग्रेस रही।

सुरजेवाला ने गिनाई कांग्रेस शासन में बनी वैक्सीन
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आपने देश की आजादी से अब तक वैक्सीन बनाने वाले वैज्ञानिकों का अपमान किया है। पीएम को पूरी जानकारी नहीं है। कांग्रेस की सरकार में इससे पहले भी कई बार 1970 में चेचक, 2005 पोलियो और इसी समय कोलेरा पर भी कंट्रोल पा लिया गया था। आपने कहा कि 60 साल तक वैक्सीन नहीं बन पाई थी।

बता दें कि हमारे यहां 1991 में टीवी का वैक्सीन बना लिया था। स्मॉल पोक्स का वैक्सीन 1965, पोलिया को वैक्सीन 1970 में नीजल्स का टीका 1980, ओरल कोलेरा का वैक्सीन 2010, 2012 में जापानी बुखार का वैक्सीन आ गया था। हर बार कांग्रेस की सरकार थी। जनता की चुनी हुई सरकार को अपमानित करने से पहले अपने देश के टीकाकरण का इतिहास पढ़ लेते तो अच्छा होता।

दिसंबर 2021 तक 200 करोड़ वैक्सीन नहीं लग पाएंगी
सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार और उनके मीडिया के साथी भी कह रहे हैं कि 31 दिसंबर 2021 तक 100 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगा दी जाएगी। यानि इस दौरान 200 करोड़ वैक्सीन लगाई जाएंगी। यदि पिछले 6 महीने का औसत देखा जाए तो हर रोज 15.46 लाख टीका लगे हैं। जबकि मोदी जी ने बताया कि रविवार को 13 लाख डोज लगे हैं, ऐसे में 31 दिसंबर तक 200 करोड़ डोज कैसे लगा सकते हैं। यह काम 2024 तक ही हो पाएगा। तब तक को लोकसभा चुनाव आ जाएगा। क्या मोदी सरकार इतना इंतजार कर सकता है क्या। इतने में यदि तीसरी लहर आ गई तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।

उन्होंने कहा कि देश में करीब 40% सरकारी स्वास्थ्य केंद्र हैं, जबकि 60% निजी अस्पताल और क्लिनिक हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को निजी अस्पतालों में भी फ्री वैक्सीन लगाना चाहिए था। यह गरीब, मध्यमवर्गी, मजदूर, पिछड़े और आदिवासी लोगों के खिलाफ है।

मोदी के बयान पर बाकी प्रतिक्रियाएं

  • छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि फ्री वैक्सीनेशन 6 महीने पहले ही हो जाना चाहिए था, पर देर आए दुरुस्त आए। वैक्सीन नीति में केंद्र सरकार को पहले कोई बदलाव नहीं करना चाहिए था। प्राइवेट अस्पतालों को अलॉट किए गए वैक्सीन के 25% डोज बहुत होते हैं।
  • आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्‌ढा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की खिंचाई के बाद केंद्र ने यह फैसला लिया है। हम इसका स्वागत करते हैं। हमारी मांग नेशनल इम्युनिसेशन ड्राइव चलाने की भी थी। इसकी अनदेखी की गई है। सुप्रीम कोर्ट की लगातार जद्दोजहद के बाद आखिरकार केंद्र की नींद खुली है।
  • इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के प्रेसिडेंट डॉ. जे ए जयलाल ने कहा कि सभी के लिए वैक्सीनेशन के फैसले के लिए हम प्रधानमंत्री को धन्यवाद देते हैं। IMA वैक्सीनेशन ड्राइव का शुरुआत से समर्थन कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here