बच्चों के साथ जेफ और रीता चौधरी। - Dainik Bhaskar

  • Hindi News
  • International
  • Annual Target, Quarterly And Weekly Meetings And Reviews For Each Member; It Grew Closer, Bonding Also Improved

लंदन5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
बच्चों के साथ जेफ और रीता चौधरी। - Dainik Bhaskar

बच्चों के साथ जेफ और रीता चौधरी।

  • चौधरी परिवार ने कॉर्पोरेट कंपनियों की सफलता के मंत्र से तय की परिवार की अहमियत

परिवार की तिमाही और वीकली मीटिंग, पैरेंट्स व बच्चों के लिए सालाना लक्ष्य और हर सदस्य का रिव्यू…! सुनकर अजीब लगता है न। बिजनेस को परिवार की तरह चलाने के बात तो सुनी होगी, पर परिवार को बिजनेस की तरह चलाने का यह अनूठा मामला ब्रिटेन का है।

57 साल की रीता चौधरी अपने परिवार को ऐसे ही ब्लू चिप कंपनी की तरह चला रही हैं और नतीजे भी उत्साहजनक हैं। रीता के परिवार में पति जैफ, बेटा रीज और दो बेटियां लिया और अन्या हैं। करीब 8 साल पहले रीता की मां और सास के अचानक साथ छोड़ जाने के बाद वे अनौपचारिक रूप से घर में एचआर डायरेक्टर की भूमिका में आ गईं।

तभी उन्होंने परिवार में इस कोचिंग के ढांचे को लागू करना शुरू किया था। हर साल जनवरी में परिवार सदस्यों के सालाना लक्ष्य तय करता है। रीटा कहती हैं कि ब्लू चिप कंपनियों का कल्चर है कि टीमें साथ मिलकर बेहतर काम करें। यही चीजें पारिवारिक मूल्यों के लिए भी अहम हैं। उन्होंने परिवार को बिजनेस की तरह चलाने का फ्रेमवर्क बनाया है। प्रमुख चरण इस तरह हैं…

  • साइकोमीट्रिक टेस्ट (हर सदस्य के व्यक्तित्व के साथ जानना कि कैसे सक्रिय होगा)
  • सालाना लक्ष्य (सेहत, रिश्तों और पैसों को लेकर हो सकते हैं, जैसे छोटे बच्चे हैं तो उन्हें दांत अच्छे रखने के लिए दो टाइम ब्रश करना)
  • तिमाही रिव्यू (इससे पता चलेगा कि तय लक्ष्य पूरे करने में समस्या तो नहीं आ रही)
  • वीकली मीटिंग (इसमें कोई नई समस्या या पिछले हफ्ते के हासिल पर चर्चा करेंगे)
  • मेंटरिंग (अपने अनुभवों से परिवार के छोटे सदस्यों को मजबूत बनने में मदद देना)

चौधरी परिवार के चार्टर में 12 मूल्यों पर जोर, हर सदस्य की जवाबदेही तय

रीता कहती हैं कि हमने एक चार्टर में जवाबदेही के सिद्धांत लिख रखे हैं।

1. प्यारा व साफ घर

2. मिलजुलकर रहना, सफलता का जश्न मनाना

3. एक-दूसरे के लक्ष्य पूरे करने में मदद

4. ईमानदारी, निष्ठा और विनम्रता

5. बिना शर्त सबसे प्यार

6. रिश्तों में सम्मान, परस्परता

7. सकारात्मक सोच व आभारी होना

8. खुले मन से बात रखना-सुनना

9. मुश्किल में मदद

10. वर्कआउट व खानपान से अच्छी सेहत

11. व्यक्तिगत विकास पर ध्यान

12. आध्यात्मिकता।

खबरें और भी हैं…