आकाश गुप्ता, अभिनव रॉय, अंकित जोशी, प्रवीण कुमार यादव के साथ इस टीम में सुवोनील चक्रवर्ती और श्रेयस ने काम किया है। - Dainik Bhaskar

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • 6 IITians Of The City Built The Country’s First Highflow Oxygen Concentrator, Produces 15 Liters Of Oxygen In A Minute

भोपाल6 घंटे पहलेलेखक: रश्मि खरे

  • कॉपी लिंक
आकाश गुप्ता, अभिनव रॉय, अंकित जोशी, प्रवीण कुमार यादव के साथ इस टीम में सुवोनील चक्रवर्ती और श्रेयस ने काम किया है। - Dainik Bhaskar

आकाश गुप्ता, अभिनव रॉय, अंकित जोशी, प्रवीण कुमार यादव के साथ इस टीम में सुवोनील चक्रवर्ती और श्रेयस ने काम किया है।

  • 5 से 10 लीटर प्रति मिनट के ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 65 हजार से 1.30 लाख तक, जबकि यह कंसंट्रेटर 1.6 लाख का

शहर के 6 आईआईटीयन्स ने देश का पहला हाईफ्लो ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किया है। अभी तक मार्केट में उपलब्ध ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सिर्फ 5 से 10 लीटर ऑक्सीजन प्रति मिनट की सप्लाई कर सकते हैं। यह सभी चीन या सिंगापुर से इम्पोर्ट किए जाते हैं। यह पहला मौका है जब देश में किसी यंग स्टार्टअप ने मेड इन इंडिया ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किया। इसकी क्षमता 15 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन देने की है। इस कंसंट्रेटर में खास लिक्विड कूलिंग सिस्टम लगाया है, जिससे यह 2 से 3 लोगों को 24×7 ऑक्सीजन सप्लाई दे सकता है। इस कंसंट्रेटर की लागत 1.06 लाख रुपए है।

मां को खो दिया था; अब इतने लोगों को मरते कैसे देख सकता था
हम सभी देश के अलग-अलग आईआईटीज से पढ़ चुके स्टूडेंट्स हैं और एक साथ मिलकर एक स्टार्टअप के तहत बैटरी से चलने वाले ट्रक्स की टेक्नोलॉजी पर काम कर रहे थे। डेढ़ महीने पहले जब लोग ऑक्सीजन की कमी के कारण मर रहे थे। ऑक्सीजन सिलेंडर एयर लिफ्ट किए जा रहे थे और त्राहि-त्राहि मची हुई थी तो मेरी आंखों के सामने तीन साल पहले का मंजर सामने आ गया, जब मेरी मां के लंग्स कोलैप्स होने से मैंने उन्हें खो दिया था। मुझे लगा कि मां को खो दिया है, लेकिन ऐसी बीमारी से और हजारों लोगों को मरते हुए नहीं देख सकता। हमने अपनी ट्रक टेक्नोलॉजी का काम होल्ड किया और मिलकर डिसाइड किया कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बनाएंगे, ताकि शहरों के साथ गांवों में भी, जहां सिलेंडर नहीं पहुंच सकते, वहां भी लोगों की जान बचाई जा सके। -आकाश गुप्ता, ग्रुप के मैंबर

दान भी कर रहे, 20 लाख रुपए जेब से लगाए
हमने करीब 20 लाख रुपए इस कंसंट्रेटर पर रिसर्च और इसे एक प्रोडक्ट का रूप देने में लगा दिए। 3.5 लाख रुपए की क्राउड फंडिंग की, ताकि मप्र के कुछ ग्रामीण सरकारी अस्पतालों को कंसंट्रेटर दान कर सकें। मंदसौर में दो अस्पतालों को अगले हफ्ते तक कंसंट्रेटर पहुंच जाएगा, तीसरे अस्पताल की तलाश कर रहे हैं, जिसे यह मुफ्त दे सकें। दिल्ली व हैदराबाद के कुछ अस्पतालों में भी कंसंट्रेटर भेजा है, जो इंडिया के टेम्प्रेचर व ह्यूमेडिटी के हिसाब से डिजाइन किया है।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here