अमृतसर में  श्री हरमंदिर साहिब (स्वर्ण मंदिर) के अंदर एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तानी अलगाववादी जरनैल भिंडरावाले के पोस्टर नजर आए. (ANI Twitter/6 June, 2021)

अमृतसर में  श्री हरमंदिर साहिब (स्वर्ण मंदिर) के अंदर एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तानी अलगाववादी जरनैल भिंडरावाले के पोस्टर नजर आए. (ANI Twitter/6 June, 2021)

अमृतसर में श्री हरमंदिर साहिब (स्वर्ण मंदिर) के अंदर एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तानी अलगाववादी जरनैल भिंडरावाले के पोस्टर नजर आए. (ANI Twitter/6 June, 2021)

Operation Blue Star: सेना ने स्वर्ण मंदिर में छिपे सशस्त्र आतंकियों का सफाया करने के लिए छह जून 1984 को ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ चलाया था.

अमृतसर. ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ की 37वीं बरसी पर अमृतसर में  श्री हरमंदिर साहिब (स्वर्ण मंदिर) के अंदर एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तानी अलगाववादी जरनैल भिंडरावाले के पोस्टर और खालिस्तानी झंडे देखे गए. इस तरह की कई तस्वीरें सामने आई हैं.

ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ की बरसी के मद्देनजर पंजाब सरकार ने पूरे राज्य में सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त किया है, खासतौर पर अमृतसर में जहां स्वर्ण मंदिर स्थित है. किसी भी अनहोनी से बचने के लिए पूरे शहर में 6,000 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ की बरसी पर हर साल यहां कई सिख समूहों द्वारा कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

Operation Blue Star, Golden Temple

उल्लेखनीय है कि सेना ने स्वर्ण मंदिर में छिपे सशस्त्र आतंकियों का सफाया करने के लिए छह जून 1984 को ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ चलाया था. उस दौरान प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी ने ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ का आदेश दिया था, जिसे अमृतसर में स्थित हरमंदिर साहिब कॉम्प्लेक्स में कराया गया था. इस ऑपरेशन में कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी. इतना ही नहीं, स्वर्ण मंदिर का कुछ हिस्से को भी नुकसान पहुंचा था.ऑपरेशन ‘ब्लू स्टार’ के कुछ महीनों बाद ही 31 अक्टूबर 1984 को प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा कर दी गई थी. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद दिल्ली में सिख विरोधी दंगे भड़क गए थे जिनमें लगभग 3,000 सिखों को मौत के घाट उतार दिया गया था.





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here