राज्यसभा सांसद रिपुन बोरा का आरोप- बांग्लादेशी हैं केंद्रीय मंत्री निसिथ प्रमाणिक, PM कराए जांच

नई दिल्ली. राज्यसभा के सांसद और असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रिपुन बोरा (Ripun Bora) ने केंद्रीय राज्यमंत्री निसिथ प्रमाणिक (Nisith Pramanik) पर बांग्लादेशी नागरिक होने का आरोप लगाया है. उन्होंने इन आरोपों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है और पूरे मामले की जांच कराने की मांग की है. हालांकि प्रमाणिक के करीबी सूत्रों ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि उनका जन्म भारत में हुआ, यहीं पर वो पले-बढ़े और भारत में ही उन्होंने शिक्षा ली.

दरअसल रिपुन बोरा ने अपनी इस चिट्ठी को ट्विटर पर पोस्ट किया है. उन्होंने कुछ न्यूज़ चैनल और वेबसाइट का हवाला देते हुए निसिथ प्रमाणिक पर बांग्लादेश के नागरिक होने का आरोप लगाया है. उन्होंने लिखा है, ‘निसिथ प्रमाणिक का जन्मस्थान हरिनाथपुर है. ये बांग्लादेश के गैयबंधा ज़िले में पड़ता है. वो कंम्पूटर की पढ़ाई करने के लिए भारत आए थे. कंम्यूटर में डिग्री लेने के बाद प्रमाणिक तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए. इसके बाद वो बीजेपी में शामिल होकर सांसद बन गए.’

रिपुन बोरा का ट्वीट

जांच की मांग
बोरा ने दावा किया कि समाचार चैनलों के मुताबिक प्रामाणिक ने ‘छेड़छाड़ कर’ चुनावी नामांकन पत्र में अपना पता कूचबिहार दिखाया. चैनलों ने बांग्लादेश स्थित उनके पैतृक गांव का ‘खुशनुमा माहौल’ भी दिखाया है, जिसमें ‘उनके बड़े भाई’ और कुछ ग्रामीण प्रामाणिक के केंद्रीय मंत्री बनने पर खुशी जता रहे हैं. बोरा ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखे पत्र में कहा, ‘अगर ऐसा है तो देश के लिए बहुत गंभीर मामला है कि एक विदेशी को केंद्रीय मंत्री नियुक्त किया गया है. इसलिए मैं आपसे से मांग करता हूं कि निसिथ प्रामाणिक के जन्मस्थान और राष्ट्रीयता की जांच पारदर्शी तरीके से कराएं ताकि पूरे देश में उत्पन्न भ्रम की स्थिति दूर हो सके.’

ये भी पढ़ें:- उत्तर प्रदेश में कांवड़ यात्रा रद्द, कोरोना महामारी के कारण लिया गया फैसला

बांग्लादेश में रिश्तेदारों ने मनाया जश्न!
पश्चिम बंगाल भाजपा के महासचिव सयंतन बसु ने कहा कि आरोप का कोई आधार नहीं है. बसु ने कहा, ‘अगर वे इस मुद्दे को और तूल देना चाहते हैं, तो तृणमूल कांग्रेस अदालत जाने के लिए स्वतंत्र है.’ इससे पहले जब प्रामाणिक के करीबी सूत्रों से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि मंत्री ‘देशभक्त भारतीय’ हैं जिनका जन्म, पालन-पोषण और शिक्षा-दीक्षा भारत में ही हुई है और कहा कि उन पर लगाए जा रहे आरोप निराधार हैं. सूत्रों ने कहा कि अगर मंत्री के कुछ रिश्तेदार दूसरे देश में जश्न मना रहे हैं तो वह क्या कर सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘अगर कनाडा के सांसद के भारतीय रिश्तेदार गर्व महसूस करते हुए भारत में उत्सव मनाते हैं तो उससे कनाडा के सांसद को क्या लेना देना है.’ (पीटीआई इनपुट के साथ)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.