कोरोना के दौरान या बाद में बीपी लो हो जाए तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

कोरोना के दौरान या बाद में बीपी लो हो जाए तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

कोरोना के दौरान या बाद में बीपी लो हो जाए तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

कोरोना होने के दौरान या कोरोना से रिकवर होने के बाद अगर मरीज का ब्‍लड प्रेशर सामान्‍य नहीं है और लगातार नीचे जा रहा है तो यह चिंता की बात है. ऐसा शॉक के कारण भी होता है. कोविड से मौत के कई मामलों में देखा गया है कि व्‍यक्ति का बीपी लो हुआ है और ऑक्‍सीजन लेवल भी गिरा है, वहीं अंत तक ब्‍लड प्रेशर नहीं बढ़ पाया है.

नई दिल्‍ली. कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद देश में मामले बढ़ने के साथ ही मौतों में भी बढ़ोत्‍तरी हुई है. इस दौरान न केवल कोरोना की चपेट में आए लोगों में इसके अलग-अलग प्रभाव देखे गए हैं बल्कि आमतौर पर लोगों में पाई जाने वाली बीमारियां भी कोरोना के दौरान या बाद में जानलेवा बनती जा रही हैं. इसी तरह की एक समस्‍या ब्‍लड प्रेशर का लो होना भी सामने आ रही है.

देश में कोरोना के कई मामलों में संक्रमित लोगों में ब्‍लड प्रेशर धीमा होने की शिकायतें भी सामने आई हैं. यहां तक कि कई मरीजों में कोरोना से रिकवर होने के बाद भी ब्‍लड प्रेशर के सबसे निचले स्‍तर पर पाए जाने की भी सूचनाएं मिली हैं. वहीं कोरोना से या कोरोना के बाद मरीजों में यह भी सामने आया है कि मरीज का ब्‍लड प्रेशर बढ़ नहीं पाया और उसकी मौत हो गई.

मैक्‍स हेल्‍थकेयर वैशाली के सीनियर कंसल्‍टेंट डॉ. अजय कुमार बताते हैं कि न केवल कोरोना में बल्कि कई अन्‍य बीमारियों के दौरान भी मरीजों में ब्‍लड प्रेशर लो होने की समस्‍या हो जाती है. आमतौर पर बीपी हाई होने पर ब्रेन हेमरेज या हर्ट संबंधी समस्‍याएं हो जाती हैं जबकि बीपी लो में ऐसे गंभीर लक्षण नहीं मिलते हैं. लेकिन अब कोरोना के बाद से चीजें जटिल हुई हैं.

डॉ. अजय कहते हैं कि कोरोना होने के दौरान या कोरोना से रिकवर होने के बाद अगर मरीज का ब्‍लड प्रेशर सामान्‍य नहीं है और लगातार नीचे जा रहा है तो यह चिंता की बात है. ऐसा शॉक के कारण भी होता है. कोविड से मौत के कई मामलों में देखा गया है कि व्‍यक्ति का बीपी लो हुआ है और ऑक्‍सीजन लेवल भी गिरा है, वहीं अंत तक ब्‍लड प्रेशर नहीं बढ़ पाया है.डॉ. कुमार कहते हैं कि यहां यह ध्‍यान देने वाली बात है कि अगर आपका बीपी लो हो रहा है तो उसे हल्‍के में न लें, बल्कि तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें. ऐसा करना खतरे से भरा हो सकता है. बता दें कि कई लोगों में सामान्‍य तौर पर भी बीपी सामान्‍य से लो ही रहता है लेकिन कोविड के दौरान किसी भी खतरे से निपटने के लिए जरूरी है कि बीपी लो को लेकर लापरवाही न बरतें.

90/60 से नीचे होता है लो बीपी या हाइपोटेंशन

डॉक्‍टर कहते हैं कि सिर्फ कोरोना वायरस को लेकर ही नहीं बल्कि सामान्‍य रूप से भी लोग अपना ब्‍लड प्रेशर जांचते रहें वहीं अगर कोरोना से उबरे हैं तो नियमित रूप से बीपी की जांच करें. बता दें कि जब किसी भी व्‍यक्ति का ब्‍लड प्रेशर 90/60 से नीचे चला जाता है तो इसे लो बीपी या हाइपोटेंशन कहते हैं. इस दौरान व्‍यक्ति को बेहोशी आने लगती है साथ ही द्रष्टि भी धुंधली हो जाती है. कुछ लोगों को चक्‍कर भी आते हैं. इससे दिल की पंपिंग क्रिया पर भी असर पड़ता है.





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here