केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (PTI Photo)

आंकड़े गिनाते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि राज्यों में 27.8 करोड़ से ज्यादा राशन कार्ड के पोर्टेबिलिटी ट्रांजैक्शन हुए हैं. (फोटो फाइल)

आंकड़े गिनाते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि राज्यों में 27.8 करोड़ से ज्यादा राशन कार्ड के पोर्टेबिलिटी ट्रांजैक्शन हुए हैं. (फोटो फाइल)

Coronavirus Vaccination: दिल्ली सरकार ने ई-पीओएस (इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ सेल) प्रणाली के जरिए राशन के वितरण पर अप्रैल 2018 में अस्थायी रोक लगा दी थी.

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर करारा हमला बोला है. दरअसल टीकाकरण के मामले में राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि वैक्सीन के सिर्फ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन काफी नहीं है. वैक्सीन सेंटर पर वॉक इन करने वाले हर व्यक्ति को टीका मिलना चाहिए. जीवन का अधिकार उनका भी, जिनके पास इंटरनेट नहीं है. इसके बाद मीडिया रिपोर्ट्स को अपनी ट्वीट में साझा करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, “कहत कबीर, बोया पेड़ बबूल का, आम कहां से होय. समझने वाले समझ गए होंगे. केंद्र सरकार ने पहले ही वॉक इन रजिस्ट्रेशन के लिए राज्यों को स्वीकृति दे दी है. भम्र ना फैलाएं, टीका लगवाएं.”

स्मृति ईरानी के अलावा एक और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने ट्वीट कर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला और कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री क्यों प्रवासी मजूदरों का हक मार रहे हैं. क्यों नहीं वे दिल्ली में एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना को लागू करते हुए अन्न योजना का लाभ प्रवासी मजदूरों को देते हैं. आंकड़े गिनाते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि राज्यों में 27.8 करोड़ से ज्यादा राशन कार्ड के पोर्टेबिलिटी ट्रांजैक्शन हुए हैं. कोविड के दौरान अप्रैल और मई महीने में 19.8 करोड़ राशन कार्ड को पोर्ट किया गया है. केंद्रीय मंत्री ने अपने ट्वीट में एक खबर भी साझा की.

बता दें कि दिल्ली में अन्न योजना को लेकर केंद्र और राज्य सरकार के बीच घमासान मचा हुआ है. दिल्ली सरकार अपनी योजना चलाना चाहती है, लेकिन केंद्र सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी है. केंद्र ने मंगलवार को दिल्ली सरकार से जन वितरण प्रणाली में ई-पीओएस उपकरणों का इस्तेमाल जल्द से जल्द चालू करने को कहा, ताकि राष्ट्रीय राजधानी के करीब 10 लाख प्रवासी राशन कार्ड धारकों को दिल्ली सरकार से अपने खाद्यान्न का कोटा हासिल करने में मदद मिले.

दिल्ली सरकार ने ई-पीओएस (इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ सेल) प्रणाली के जरिए राशन के वितरण पर अप्रैल 2018 में अस्थायी रोक लगा दी थी. दिल्ली सरकार को लिखे एक पत्र में केंद्रीय खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने कहा कि ई-पीओएस मशीनें न केवल राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एनएफएसए) के तहत सब्सिडी वाले खाद्यान्नों के पारदर्शी वितरण के लिए बल्कि एक देश एक राशन कार्ड (ओएनओआरसी) के कार्यान्वयन के लिए भी जरूरी हैं.ओएनओआसी प्रौद्योगिकी आधारित सुविधा है और इसके लिए राशन की दुकान पर ई-पीओएस उपकरण का प्रयोग जरूरी होता है. पांडे ने कहा कि इसके बिना प्रवासी श्रमिकों के लिए एक देश एक राशन कार्ड सुविधा का लाभ पहुंचाने में बाधा आ रही है. उन्होंने कहा कि उनका विभाग दिल्ली सरकार को हर जरूरी तकनीकी सहयोग देने को तैयार है. इस तरह की सुविधा से दिल्ली के राशनकार्ड धारकों को दूसरे प्रदेश में राशन प्राप्त करने की सुविधा भी होगी.

उन्होंने बताया कि ‘मेरा राशन’ मोबाइल ऐप इस समय दस भाषाओं में सुलभ है. इससे दिल्ली के नागरिकों को अपना राशन प्राप्त करने में मदद मिलेगी.





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here